सत्यनारायण व्रत कथा (पंचम अध्याय)

सत्यनारायण व्रत कथा (पंचम अध्याय) श्री सूतजी ने आगे कहा-हे ऋषियों! मैं एक और भी कथा कहता हूं, सुनो-प्रजापालन में लीन तंगध्वज नाम का एक राजा था। उसने भगवान सत्यदेव का प्रसाद त्यागकर बहुत दुख पाया। एक समय राजा वन में वन्य पशुओं को मारकर बड़ के वृक्ष के नीचे आया। वहां उसने ग्वालों को भक्तिभाव से को…

सत्यनारायण व्रत कथा (चतुर्थ अध्याय)

सत्यनारायण व्रत कथा (चतुर्थ अध्याय) चतुर्थ अध्याय श्री सूतजी ने कहा-वैश्य ने मंगलवार करके यात्रा आरंभ की ओर अपने नगर चला। उनके थोड़ी दूर आगे बढ़ने पर दण्डी वेशधारी श्री सत्यनारायण भगवान् ने उससे पुछा हे-साधु! तेरी नाव में क्या है? अभिमानी वणिक हँसता हुआ बोला-हे दण्डी! आप क्यों पूछते हैं? क्या धन लेने की…

सत्यनारायण व्रत कथा (तृतीय अध्याय)

सत्यनारायण व्रत कथा (तृतीय अध्याय) तृतीय अध्याय श्री सूत जी ने कहा- हे ऋषि श्रेष्ठ मुनियों! अब आगे की एक कथा कहता हूं। पूर्व काल मेंउल्कामुख नाम का एक महान बुद्धिमान राजा था। वह सत्यवक्ता और जितेंद्रिय था। प्रतिदिन देवस्थानों पर जाता तथा गरीबों को धन देख कर देकर उनके कष्ट दूर करता था। उसकी पत्नी…

सत्यनारायण व्रत कथा (द्वितीय अध्याय)

सत्यनारायण व्रत कथा (द्वितीय अध्याय) द्वितीय अध्याय सूत जी ने कहा- हे ऋषियों जिन्होंने पहले समय मैं इस व्रत को किया उनका इतिहास कहता हूं आप सब ध्यान से सुने सुंदर काशीपुर नगरी में एक अत्यंत निर्धन ब्राह्मण रहता था मैं ब्राह्मण भूख और प्यास से बेचैन होकर है वह नित्य पृथ्वी पर घूमता था…

सत्यनारायण व्रत कथा (प्रथम अध्याय)

सत्यनारायण व्रत कथा (प्रथम अध्याय ) पूजन सामग्री केले के खंम्बे  (कदलीस्तम्भ), कलश , पंचपल्लव, पंचरतन, श्रीफल, कलावा, यज्ञोपवीत, चौकी, ध्रुव, गंगाजल, कच्चाधागा (मौली), गणेश भगवान (चित्र), काँसे का वर्तन,कुमकुम, सुपारी, चावल, धूप, पुष्पों की माला, पान के पत्ते, तुलसी,दीप, नैवैद्य ,गुलाब के फूल, वस्त्र, आम के पत्तों का बंधनवार, पांच रतन, कपूर, रोली, फल,…